Home / देश / नही रहे तारक मेहता का उल्टा चश्मा के डॉ हाथी

नही रहे तारक मेहता का उल्टा चश्मा के डॉ हाथी

मुम्बई ।मशहूर टीवी शो ‘तारक मेहता का उल्टा चश्मा’ में डॉक्टर हंसराज हाथी का रोल न‍िभाने वाले एक्टर कव‍ि कुमार आजाद का न‍िधन हो गया है. एक्टर लंबे वक्त से इस शो में जुड़े हुए थे.

 

 

 

 

 

 

 

एक्टर कव‍ि कुमार आजाद की मौत हार्ट अटैक की वजह से हुई है.कुछ द‍िनों पहले एक्टर के ट्व‍िटर अकाउंट से एक तस्वीर पोस्ट की गई थी. इस तस्वीर में एक्टर ने कहा था- “किसी ने कहा है कल हो न हो, मैं कहता हूं पल हो न हो. हर लम्हा जियो.

 

 

 

 

जेठा लाल के जिगरी दोस्त डॉक्टर हंसराज हाथी बने कवि कुमार आजाद का निधन, हार्ट अटैक बनी वजह
मुम्बई तारक मेहता का उल्टा चश्मा (Taarak Mehta Ka Ooltah Chashmah)’ के सुपरहिट कैरेक्टर डॉ. हंसराज हाथी यानी कवि कुमार आजाद का निधन हो गया है. कॉमेडी सीरियल ‘तारक मेहता का उल्टा चश्मा’ में डॉ. हंसराज हाथी गोकुलधाम सोसाइटी के ऐसे सदस्य थे, जिनसे हर कोई प्यार करता था, और वे दर्शकों समेत पूरी सोसाइटी के चहेते थे. ‘तारक मेहता का उल्टा चश्मा’ में कवि कुमार आजाद डॉ. हाथी के किरदार में थे, और वे हमेशा खाना खाने के दीवाने रहते थे. शो में वे डॉक्टर थे, लेकिन ओवरवेट डॉक्टर थे. उन्हें हर कोई बहुत प्यार करता था. कवि कुमार आजाद का निधन हार्ट अटैक की वजह से हुआ है, और जिस समय उन्हें दिल का दौरा पड़ा वे घर पर थे.
शो से जुड़े सूत्रों ने बताया कि कवि कुमार आजाद का आज सुबह ही प्रोड्यूसर के पास फोन आया था, और उन्होंने कहा था कि उनकी तबियत ठीक नहीं है इसलिए वे आज शो पर नहीं आ पाएंगे. लेकिन थोड़ी देर बाद ये बुरी खबर आ गई.
शो से जुड़े सूत्र बताते हैं कि वे तबियत खराब होने के बावजूद भी शो पर आते थे. वे शो से बहुत प्यार करते थे. ‘तारक मेहता का उल्टा चश्मा’ 10 साल पूरे करने जा रहा है, इसलिए आज सेट पर इसको लेकर एक मीटिंग भी थी. लेकिन उससे पहले ही ये बुरी खबर आ गई. कवि कुमार आजाद बॉलीवुड में भी हाथ आजमा चुके थे, और ‘मेला (2000)’ में नजर आए थे.
इस फिल्म में उनके साथ आमिर खान भी थे. हालांकि कवि कुमार आजाद को असली पहचान ‘तारक मेहता का उल्टा चश्मा’ से मिली. कवि कुमार आजाद के नाम से ही जाहिर है कि वे कवि थे, और जब वे एक्टिंग में मशगूल नहीं होते तो कविताएं लिखा करते थे. शो में वे पूरी गोकुल धाम सोसाइटी के साथ बहुत ही मिलनसारिता के साथ पेश आते थे. ऑडियंस खासकर बच्चों में वे बहुत लोकप्रिय थे.

Check Also

बंगाल की खाड़ी में बने चक्रवात से बदला मौसम

ग्वालियर। बंगाल की खाड़ी में बने चक्रवात के कारण अंचल का मौसम इन दिनों पूरी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.