Home / खेल / तीसरी कुश्ती ने ली मप्र केसरी पहलवान रवि वारोड की जान । पढ़े कैसे घटी यह दर्दनाक घटना

तीसरी कुश्ती ने ली मप्र केसरी पहलवान रवि वारोड की जान । पढ़े कैसे घटी यह दर्दनाक घटना

भिण्ड। दंगल मे कुश्ती के दौरान पहलवान की मौत,पहलवान का नाम रवि पुत्र गजेन्द्र निवासी इन्दौर ,पहलवान की कुश्ती कर दौरान हालात बिगड़ने पर सिविल अस्पताल लहार से ग्वालियर रिफर किया गया जहां बिरला हॉस्पिटल में डॉक्टरों ने पहलवान को मृत घोषित कर दिया ।
 रावतपुरा धाम पर हुआ था कुश्ती का आयोजन । बताया गया है कि टुकड़ा निवासी जोगा सिंह का बेटा गगनदीप इंदौर में रहता है । वह मल्हार आश्रम में स्थित अखाड़े में पहलवानी करता है । उसी अखाड़े का पहलवान रवि वारोड भी है जो मप्र केसरी का खिताब जीत चुका था ।
गगनदीप को पता चला कि बुढ़वा मंगल को  लहार इलाके के श्री रावतपुरा सरकार आश्रम में बड़ा दंगल होता है । उसने रवि को फ़ोन करके इसकी सूचना दी तो वह भी कुश्ती लड़ने पहुंच गया ।
प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार दंगल में आसपास के कई जिलों से तीस से ज्यादा पहलवान भाग लेने आये थे । इसमे रवि ने लगातार दो कुश्तियां लडीं जिसमे उसने अपने प्रतिद्वंद्वी पहलवानों को धूल चटाई । इसके बाद उसे तीसरी कुश्ती के लिए बुलाया लेकिन तब उसे बेचैनी हो रही थी । जनता के दबाव में चार बोलने पर रवि अखाड़े में पहुंच गया लेकिन उसे सीने में दर्द और बेचेनी होने लगी । उसे उल्टियां हुई और वह मूर्छा की स्थिति में पहुंचा तो तो लोग उसे लेकर तत्काल लहार की तरफ भागे । वहां जिला अस्पताल में ले जाया गया जहां से उसे ग्वालियर रेफर कर दिया गया । बिरला अस्पताल में उसे मृत घोषित कर दिया गया ।
दंगल प्रबंधन पर सवाल
इस मौत को लेकर दंगल के आयोजन समिति के नियमो पर भी सवाल उठ रहे है । लोगों का कहना है कि सामान्यतौर पर किसी भी पहलवान से लगातार दो कुश्तियां नही कराईं जाती और तीसरी तो संभव ही नही है फिर रवि को तीसरी कुश्ती लगातार करने के लिए अखाड़े में क्यों बुलाया गया ।
रवि शंकर महाराज नही थे मौजूद
लोगों ने बताया कि अखाड़े के आयोजन रावतपुरा सरकार परिसर में था । दंगल शुरू होने के पहले श्री रवि शंकर महाराज कुछ देर के लिए दंगल प्रांगण में।आये थे लेकिन थोड़ी देर बाद ही अपने आश्रम में चले गए थे । जब यह दुखद घटना घटित हुई तब वे मौके पर मौजूद नही थे ।
डॉ गोविंद सिंह ने जताई संवेदना
पूर्व मंत्री और लहार के विधायक डॉ गोविंद सिंह ने इस घटना पर गहरा दुख व्यक्त किया । उन्होंने “इंडिया शाम तक “को बताया कि सुबह पहलवान उनसे मिलने आये थे । उन्होंने दंगल में जाने की जानकारी दी थी इसके बाद शाम को जब वे दौरे से लौटे तो यह दुखद सूचना मिली । मैं दिवंगत के प्रति श्रद्धांजलि अर्पित करता हूँ ।

Check Also

एनआरसी देशभर में लागू किया जाएगा: विजय गोयल

धर्मशाला। देश के लोगों की निष्पक्षता से पहचान के लिए सभी राज्यों में नेशनल रजिस्टर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.