Home / देश / माल्या ने ट्वीट कर बैंकों का 100 प्रतिशत मूलधन लौटाने का ऑफर दिया

माल्या ने ट्वीट कर बैंकों का 100 प्रतिशत मूलधन लौटाने का ऑफर दिया

नई दिल्ली। बैंकों का 9 हजार करोड़ लेकर फरार होने के बाद भगोड़ा घोषित हो चुके शराब कारोबारी विजय माल्या ने बैंकों का कर्ज चुकाने का ऑफर दिया है। माल्या ने ट्वीट कर कहा है कि वो बैंकों से लिए लोन का 100 प्रतिशत मूलधन चुकाने को तैयार है। हालांकि, उसने इसका ब्याज लौटाने से इनकार कर दिया है। गौरतलब है कि विजय माल्या पर वित्तीय फ्रॉड और मनी लॉन्ड्रिंग जैसे गंभीर मामलों पर जांच चल रही है।

 

 

 

 

 

अपने पहले ट्वीट में माल्या ने लिखा, “राजनेता और मीडिया लगातार जोर-जोर से चिल्लाकर मुझे ऐसा डिफॉल्टर बता रहे हैं जो सरकारी बैंकों का पैसा लेकर भाग गया। यह सब झूठ है। मेरे साथ उचित व्यवहार क्यों नहीं किया गया, मैने कर्नाटक हाईकोर्ट के समक्ष लोन सेटलमेंट का विस्तृत प्लान पेश किया था, उसकी इतनी बात क्यों नहीं होती है। दुखद”माल्या ने अपने दूसरे ट्वीट में कहा, “एयरलाइन जिस वित्तीय संकट का सामना कर रही है उसकी मुख्य वजह एटीएफ की ऊंची कीमतें हैं। किंगफिशर एक शानदार एयरलाइन्स थी लेकिन उसने क्रूड के 140 डॉलर प्रति बैरल तक पहुंच जाने की स्थिति का सामना किया। इससे कंपनी का घाटा बढ़ा और बैंकों का कर्जा भी। मैने उन्हें 100 फीसद मूलधन लौटाने का ऑफर दिया है। कृपया इसे स्वीकार करें।”

 

 

 

 

 

 

माल्या ने अपने अगले ट्वीट में कहा, “तीन दशकों तक शराब के सबसे बड़े समूह का संचालन करते हुए हमने सरकारी खजाने में हजारों करोड़ रुपये का योगदान दिया। वहीं किंगफिशर एयरलाइन्स ने भी सरकार को अच्छी रकम दी। बेहतरीन एयरलाइन्स को खोना दुखद है लेकिन फिर भी मैं बैंकों को पैसा चुकाने का ऑफर करता हूं। कृपया इसे स्वीकार करें।”

गौरतलब है कि 9,000 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी और मनी लॉन्डरिंग मामले में भारत सरकार के अनुरोध पर लंदन की अदालत में विजय माल्या के खिलाफ प्रत्यर्पण का केस भी चल रहा है। इस मामले में इसी महीने कोर्ट का फैसला आने की उम्मीद है।

Check Also

संसद का शीतकालीन सत्र शुरू, PM बोले- कई अहम मुद्दों पर होगी चर्चा

नई दिल्ली। पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव की मतगणना के बीच मंगलवार को संसद का …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.