Home / देश / राज्यसभा में हंगामा, सत्र बढ़ाने का विरोध

राज्यसभा में हंगामा, सत्र बढ़ाने का विरोध

राज्यसभा की कार्यवाही शुरू हो गई है. सदन में टीएमसी सांसद सुखेन्दु शेखर राय ने राज्यसभा की कार्यवाही एक दिन बढ़ाने का मुद्दा उठाते हुए कहा कि सदस्यों को पहले से इसकी जानकारी नहीं दी गई. उन्होंने कहा चेयर को ऐसा करना का अधिकार है लेकिन नियम के मुताबिक सदस्यों को इसकी जानकारी देना जरूरी है. सांसद ने कहा कि रात के अंधेरे में बुलटिन जारी कर सदन एक दिन के लिए बढ़ाया गया और यह पूरी तरह असंवैधानिक है. शीतकालीन सत्र में राज्यसभा की कार्यवाही एक दिन के लिए बढ़ाने के खिलाफ विपक्षी दल प्रदर्शन कर रहे हैं. उपसभापति बार-बार वेल में आए सांसदों से वापस जाने की अपील कर रहे हैं, लेकिन उसका असर होता नहीं दिख रहा है. हंगामे के बीच उच्च सदन में चेयर की अनुमति विभिन्न दलों के सांसद अहम मुद्दे उठा रहे हैं. हंगामे के बाद राज्यसभा की कार्यवाही  स्थगित कर दी गई है.
विजय गोयल ने राज्यसभा में कहा कि सवर्णों को आरक्षण देने से जुड़ा जो 124वां संशोधन बिल आया है उस पर चर्चा कर पारित करना चाहिए. क्योंकि इस बिल पर सभी दलों ने अपनी सहमति जताई है. सदन की बैठक एक दिन बढ़ाने पर उपसभापति हरिवंश ने कहा कि सभापति के विभिन्न दलों के नेताओं के साथ हुई बैठक के बाद सत्र बढ़ाने का फैसला लिया गया. साथ ही बीएसी की बैठक में भी इसकी जानकारी दी गई. हरिवंश ने कहा कि मुझे लगा कि सभी को सदन एक दिन बढ़ाए जाने की जानकारी है इसी वजह से मैंने कल सदन को आज सुबह 11 बजे कर के लिए स्थगित कर दिया था. अगर यह चूक है तो यह मेरी निजी गलती है.
सहमति के बिना बढ़ाया सत्र: आनंद शर्मा

कांग्रेस के सांसद आनंद शर्मा ने कहा कि सरकार की ओर से आधी रात में आदेश जारी किया जाता है. उन्होंने कहा कि सरकार के पास बिल लाने का अधिकार है लेकिन सदन नियमों पर चलता है, बिना आम सहमति के सदन एक दिन के लिए बढ़ाया गया है. बिजनेस एडवाइडरी में भी इस पर कोई फैसला नहीं हुआ, सदन न चलने के लिए सरकार जिम्मेदार है, सरकार को विपक्ष से बात करनी चाहिए. सरकार के काम है कि वो विपक्ष के मुद्दों को सुने और सदन चलाने का काम उनका है. शर्मा ने कहा कि पूर्वोत्तर आज जल रहा है, जब तक राजनाथ सिंह जवाब नहीं देते तब तक कोई बिल सदन में नहीं लाया जाएगा.
अहम बिल के लिए बढ़ाया सत्र: जेटली

राज्यसभा में नेता सदन अरुण जेटली ने कहा कि देश चाहता है संसद चले. उन्होंने कहा कि अहम विधेयकों के लिए सत्र को एक दिन के लिए बढ़ाया गया है और विपक्षी दलों के सरकार का साथ देकर विधायी कामकाज पूरा कराना चाहिए. उन्होंने कहा कि आम दिनों में तो हंगामे की वजह से काम हो नहीं सका, कम से कम आज जब सदन एक दिन बढ़ा है तो सदन में काम होना चाहिए.

Check Also

मुंबई में फिर खुलेंगे डांस बार.सुप्रीम कोर्ट ने शर्तों के साथ दी मंजूरी

मुंबई। डांस बार को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को बड़ा फैसला सुनाते हुए सरकार …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.