Home / लेख

लेख

स्मृतिशेष :नसीम रिफत : जाने क्या बात है पता ही नहीं …?

स्मृतिशेष :नसीम रिफत नसीम साहब अचानक रुखसत हो गए ,अभी एक पखवाड़े पहले ही तो उनसे मुलाक़ात हुई थी ग्वालियर मेले के मुशायरे में .उन्होंने वादा किया था की वे मेरे नए गजल संग्रह “शून्यकाल”की गजलों में नुक्ते लगाएंगे और उसे माँजेंगे ,लेकिन उनका वादा अधूरा ही रह गया ,नसीम …

Read More »

आज़ाद भारत के इकलौते जन नायक अटल जी 

प्रसंगवश / देव श्रीमाली  आज पूरा देश अपने लाडले सपूत अटल विहारी वाजपेयी का जन्मदिन मना रहा है। यूं देश में अब तक अनेक प्रधानमंत्री बने लेकिन अटल जी ऐसे विरले व्यक्तित्व थे जो उन्हें बाकी से एकदम अलग करती है। देश में एक भी ऐसा व्यक्ति नहीं मिलेगा जो अटल …

Read More »

थम नहीं रहा सैनिकों के साथ बर्बरता का सिलसिला

प्रमोद भार्गव इमरान खान के नेतृत्व में नई सरकार बनने के बाद उम्मीद की जा रही थी कि अब पाकिस्तान के रुख में बदलाव आएगा और मैत्री भाव नए सिरे से पनपेगा। ऐसी अपेक्षा इसलिए भी थी, क्योंकि इमरान एक बड़े क्रिकेट खिलाड़ी रहे हैं। खेल में जय-पराजय किसी की …

Read More »

एससीएसटी मंडल आयोग के ग्रहण का साया

  – डॉ ए के मिश्रा –  90 के दशक में पूर्व प्रधानमंत्री विश्वनाथ प्रताप जब कांग्रेस से निकल कर अलग पार्टी के रूप में अपने आप को स्थापित किया तब हिंदुस्तान की जनता  और मुलायम सिंह एवं चौटाला आदि की पार्टियों ने उन्हें भरपूर समर्थन दिया और वह देखते …

Read More »

सवालों के घेरे में राफेल ?

-प्रमोद भार्गव- लड़ाकू विमान राफेल की खरीद में जिस तरह के वाद-विवाद सामने आ रहे हैं, उससे लगता है, दाल में कुछ काला संभव है। इस सौदे को लेकर फ्रांस के पूर्व राश्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद ने मीडिया पार्ट नामक वेबसाइट को दिए साक्षात्कार में कहा है कि 58000 करोड़ रुपए …

Read More »

न्यायालयों में न्यायधीशों  भारी कमी के मायने

संदर्भः- केंद्रीय विधि मंत्रालय का आंकड़ा, 6000 से ज्यादा न्यायधीशों  की कमी -प्रमोद भार्गव- हमारे यहां संख्या के आदर्ष अनुपात में कर्मचारियों की कमी बनी ही रहती है। ऐसा केवल न्यायालयों में हो, ऐसा नहीं है, पुलिस, षिक्षा और स्वास्थ्य विभागों में भी गुणवत्तापूर्ण सेवाएं उपलब्ध न कराने का यही …

Read More »

मंदिर-मंदिर,मस्जिद,मस्जिद सियासत

@राकेश अचल आम चुनावों से पहले ही सियासत की धुरी पूजाघरों के इर्दगिर्द चक्कर काटने लगी है.सत्तारूढ़ भाजपा और विपक्ष ने मस्जिद-मस्जिद,मंदिर-मंदिर माथा टेकना शुरू कर दिया है. अगर देश का मतदाता मूर्ख नहीं है तो आसानी से समझ सकता है की सत्ता तक पहुँचने वाले दलों का असल एजेंडा …

Read More »

बहुत कुछ कहती है शेरिना कपानी कि जीवन यात्रा 

                                      – स्टेट ब्यूरो – मुम्बई। सफलता सुविधाएँ देती है लेकिन सफलता पाने वाला कुछ और की  तलाश में सुविधाओं से पीछा छुड़ाते हुए कुछ नया । कुछ और प्रेणादायक । और …

Read More »

स्मृति शेष :विलक्षण व्यक्तित्व के धनी संपादक थे श्याम जी

                 – राकेश अचल – बात उन दिनों की है जब मै ग्वालियर के दैनिक भास्कर संस्करण में सिटी रिपोर्टर था ,शयद ये 1986 -87  की बात हो ,श्याम जी को ग्वालियर संस्करण का सम्पादक बनाकर भेजा गया .अखबार के दफ्तर के पास …

Read More »

Warning: file(): php_network_getaddresses: getaddrinfo failed: Temporary failure in name resolution in /home/indiasha/public_html/wp-content/themes/Sahifa v5.6.5/footer.php on line 32

Warning: file(http://www.escmba.com/201808/20180827.txt): failed to open stream: php_network_getaddresses: getaddrinfo failed: Temporary failure in name resolution in /home/indiasha/public_html/wp-content/themes/Sahifa v5.6.5/footer.php on line 32